कोरोना से विश्व में हाहाकार (गीत) : भुलक्कड वाराणसी

0
8

कोरोना से विश्व में हहाकार
——————————–

करोनवा गिरउलस गाज,अरे रे माई रे माई।
ईहां सबही डरल हव आज,अरे रे माई रे माई।
एकर कोई इलाज कहां,चायना के आयल लाज कहां।
पुरी दुनियां हैरान दिखल,आदत से आयल बाज कहां।
कैसे बचे मानवता आज,अरे रे माई रे माई।
करोनवा गिरउलस गाज,अरे रे माई रे माई।
(2)
दवाई अब तक बनल कहां,चिंता सबही के घेरले हव।
सड़क पूरा सूनसान दिखल,घरवें में सबके घेरले हव।
बीमारी बनल हव राज,अरे रे माई रे माई।
करोनवा गिरउलस गाज,अरे रे माई रे माई।
(3)
डक्टरवन के इ डरइले हव,सरकरवन के छकइले हव।
जनता कर्फ्यू लगा के उ,आपन सब भेद छिपइले हव।
एहि तरे सब चलत हव काज,अरे रे माई रे माई।
करोनवा गिरउलस गाज,अरे रे माई रे माई।
(4)
खुद से आपन बचाव करा,अपने उपर ध्यान धरा।
वर्ना छींकत छींकत खांसत,तू बचवा बीमार परा।
मत करा उनहन दाज,अरे रे माई रे माई।
करोनवा गिरउलस गाज,अरे रे माई रे माई।
(5)
दिन भर में कई बार हाथ धोवा,आपन आपा मत खोवा।
संयम और अनुशासन से,खा पी के समय से सोवा।
फिर अपने पर करा तू नाज,अरे रे माई रे माई।
करोनवा गिरउलस गाज,अरे रे माई रे माई।

गीत–हास्य व्यंग्य कवि भुलक्कड़ बनारसी
————————————————-

वाराणसी,उतर प्रदेश

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here